इस अभियान में जुडकर आप भी ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचने में हमारी मदद कर सकते हैं | इस अभियान से जुड़ने हेतु यहाँ क्लिक करिए ।

गायत्री मंत्र

|| ॐ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो न: प्रचोदयात्‌ ||



भावार्थ :- हम तीनों लोकों के उस वरण करने योग्य देवता की शक्तियों का ध्यान करते हैं, वह परमात्मा हमारी बुद्धि को सन्मार्ग में प्रेरित करे।

2 टिप्‍पणियां:

  1. मंत्र सही नही लिखा गया है । सही मंत्र इसप्रकार लिखा जायगा

    ॐ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो न: प्रचोदयात्‌ ॥

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. त्रुटि सुधार हेतु धन्यवाद !!

      आपसे आगे भी सहयोग की उम्मीद है |

      हटाएं